Food Processing Technolgy में है नोकरी पाने का पूरा अवसर



सीआईआईं के अनुसार देश में फ़ूड प्रोसेसिंग सेक्टर आने वाले दिनों में 10 से 90 लाख नई नोकारिया के अवसर पैदा करेगा। क्योंकि इस सेक्टर में अब विदेश से भी इंव्स्टमेंट में बढ़ोतरी होने वाली है।

   फ़ूड इंडस्ट्री के बारे में और अधिक जाने :

सरकार के प्रायोरिटी सेक्टर में शामिल फ़ूड प्रोसेसिंग सबसे तेज़ Grow करने वाली इंडस्ट्री है।आज देश में  Food Industry में 32 %  हिस्सेदारी Food Processing sector की है।और यह तेज़ी से बढ़ रही है।पिछले 15 सालों में 6.70 लाख अरब डॉलर का विदेशी निवेश हुवा है। जबकि आने वाले समय में 33 अरब डॉलर होने की संभावना है।
     तेज़ी से Grow होने से इस सेक्टर में 90 लाख नए रोजगार आयेगी।
      
 किस सेक्टर में ज्यादा अवसर प्राइवेट या सरकारी :-

वैसे तो इसमें सरकारी से ज्यादा प्राइवेट सेक्टर में ज्यदा अवसर है।
सरकारी सेक्टर में Department Of Food And Public Distribution हर साल बड़ी तादाद में फ़ूड टेक्नोलॉजी की नियुक्ति करती है।
इसके अलावे फ़ूड कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया और सेंट्रल वेयरहाउसिंग कारपोरेशन में भी उनके अवसर मौजूद है।

  किस डिग्री वालो को मिल सकती यह अवसर:-

मिल्क प्रोडक्ट्स, फ्रूट्स एंड वेजिटेबल, फिशरीज, प्लांटेशन , कन्फेक्शनरी, बेवरेजेस, हेल्थ फूड्स जैसे सेक्टर में ट्रेंड प्रॉफेशनल्स की जरुरत होती है।
           फ़ूड प्रॉसेसिंग इंडस्ट्री के अलावे रिसर्च लेबोरटी, सॉफ्ट ड्रिंक, हॉस्पिटेलिटी, पैकेजिंग, आर एंड डी सेक्टर में फ़ूड टेक्नोलॉजी की डिग्री ले चुके स्टूडेंट्स को यह अवसर मिलता है

       कितना पैकेज मिलता है :-

शुरूआत में 2 से 3 लाख का सालाना पैकेज मिलता है। 2-3 साल experience के बाद 4 -5 लाख रुपये सालाना मिलता है।

   ट्रेंड प्रॉफेशनल की कमी पूरी करने के लिए खास इंतेज़ाम :-

एक अनुमान के अवसर इस Industry में हर साल एक लाख से ज्यादा ट्रेंड प्रॉफेशनल्स की जरुरत होती है,लेकिन आधे से कम लोग ही मिल पाते है।इस कमी को पूरा करने के लिए मिनिस्ट्री ऑफ फ़ूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री ने ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट के लिए एक Skim शुरू की है।इसके तहत फ़ूड प्रॉसेसिंग की डिग्री और डिप्लोमा कोर्स के लिए इंफ्राट्रचर का विकास, entrepreneur Development, Food processing centre aur national  और राषटीय तथा राज्य स्तर पर ट्रेनिंग की इंतेज़ाम है।
Powered by Blogger.